माँ बमलेश्वरी मंदिर

परिचय: तहसील मुख्यालय डोंगरगढ़ जिले का एक प्रमुख पर्यटन एवं तीर्थस्थल है. माँ बमलेश्वरी का प्रसिद्ध मंदिर, डोंगरगढ़ शहर में 1600 फुट की पहाड़ी पर स्थित है। इस मंदिर को बडी बमलेश्वरी कहा जाता है। पहाड़ी के नीचे एक अन्य मंदिर जो मुख्य मंदिर से लगभग 1/2 कि.मी. की दुरी पर स्थित है, इसे छोटी बमलेश्वरी मंदिर के नाम से जाना जाता है. छत्तीसगढ़ एवं आसपास के लाखों श्रद्धालु क्वार नवरात्री समां(दशहरा के समय) एवं चैत्र (रामनवमी के दौरान) दर्शन के लिए आते हैं। इन दौरान नवरात्रि मेले का आयोजन मंदिर के परिसर में किया जाता है, जो 24 घंटों के लिए चलता हैं। इस मेले के दौरान कई कंपनियों और संगठन अपने उत्पाद को प्रदर्शित करते हैं। यहाँ पर्यटकों का मुख्य आकर्षण रोपवे है. यह छत्तीसगढ़ राज्य में एकमात्र यात्री रोपवे है।

कैसे पहुंचें :
डोंगरगढ़ जिला मुख्यालय राजनांदगांव से 40 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है एवं राजनांदगांव से सड़क मार्ग एवं रेल मार्ग से जुड़ा हुआ है। डोंगरगढ़ के लिए जिला मुख्यालय से बस एवं अन्य सवारी गाड़ियाँ हमेशा उपलब्ध रहते है। रेल मार्ग से यह नागपुर से 170 किलोमीटर की दूरी पर एवं रायपुर से 100 किलोमीटर दुरी पर बॉम्बे - हावड़ा की मुख्य रेल लाइन पर स्थित है। निकटतम हवाई अड्डा माना (रायपुर) में है, जो कि डोंगरगढ़ से करीब 110 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है।

मंदिर समय:
सप्ताह के दिनों में – प्रातः 04:30 बजे सुबह से दोपहर 01.30 बजे तक एवं पुनः दोपहर 02: 30 बजे से रात 10:00 बजे तक
शनिवार एवं रविवार को – प्रातः 04:30 बजे से 10.00 बजे रात्रि तक
नवरात्री के दौरान - 24 घंटे

यात्रा करने के लिए मौसम :
वर्ष में किसी भी समय डोंगरगढ़ का भ्रमण किया जा सकता है।

महत्वपूर्ण नोटिस